जानिए नेताओं के बाद अब पी चिदंबरम आए सामने, बोले- असहाय महसूस कर रहा हूं

0
494

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के भीतर की कलह आए दिन सतह पर आती रहती है, लेकिन कोई ठोस समाधान मिलता नहीं दिख रहा। पार्टी के सीनियर नेता सार्वजनिक रूप से बोल रहे हैं लेकिन शीर्ष नेतृत्व कोई क़दम उठाता नहीं दिख रहा। कोई नेता अनदेखी का आरोप लगा रहा है तो कोई ख़ुद को असहाय महसूस कर रहा है। अपने ही लोग पूछ रहे हैं कि बिना स्थायी अध्यक्ष के पार्टी कैसे चल रही है और कौन चला रहा है।

https://www.newslable.com/wp-content/uploads/2021/10/3-2.jpg

पंजाब कांग्रेस में जारी उथल-पुथल के बीच चिदंबरम ने ट्विट में कहा ‘जब हम पार्टी मंचों के भीतर सार्थक बातचीत शुरू नहीं कर पाते हैं तो मैं असहाय महसूस करता हूं। जब मैं अपने एक सहयोगी और सांसद के आवास के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा नारे लगाते हुए तस्वीरें देखता हूं तो मैं भी आहत और असहाय महसूस करता हूं।’

कांग्रेस के भीतर असहमत सीनियर नेताओं का समूह- जी-23 है। इसमें कपिल सिब्बल, ग़ुलाम नबी आज़ाद से लेकर शशि थरूर तक हैं। इस समूह ने बुधवार को ही मांग की थी कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई जाए। अब कांग्रेस ने सीडब्ल्यूसी की बैठक बुलाने की बात कही है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने अंग्रेज़ी अख़बार द हिन्दू से कहा है, ”शिमला छोड़ने से पहले कांग्रेस प्रमुख सोनिया गाँधी ने पहले ही संकेत दे दिया था कि कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक जल्द ही बुलाई जाएगी। यह बैठक आने वाले दिनों में होगी।” हालाँकि सूरजेवाला ने कोई तारीख़ नहीं बताई।

एक तरफ़ कांग्रेस पंजाब में संकट से जूझ रही है तो दूसरी तरफ़ बुधवार को कपिल सिब्बल ने एक विस्फोटक प्रेस कॉन्फ़्रेंस की और पूछा कि कांग्रेस का अभी कोई अध्यक्ष नहीं है तो पार्टी का फ़ैसला कौन ले रहा है।

https://www.newslable.com/wp-content/uploads/2021/10/3-1.jpg

राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे ग़ुलाम नबी आज़ाद ने भी सोनिया गाँधी को एक चिट्ठी लिखी है और सीडब्ल्यू की बैठक बुलाने की मांग की। गुरुवार को कपिल सिब्बल की प्रेस कॉन्फ़्रेंस को लेकर पार्टी के भीतर ही विवाद हो गया। जी-23 के नेता एक तरफ़ दिखे और बाक़ी गांधी-नेहरू परिवार के वफ़ादार नेता दूसरी तरफ़। कांग्रेस नेता और लोकसभा सांसद मनीष तिवारी ने भी कपिल सिब्बल के घर के बाहर हुए विरोध-प्रदर्शन का कड़ा विरोध किया है।

क्या कहा था मनीष तिवारी ने?
कपिल सिब्बल की ओर से पार्टी नेतृत्व पर सवाल खड़ा किए जाने के बाद पार्टी के कई कार्यकर्ताओं ने बुधवार को सिब्बल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया और उनके खिलाफ नारेबाजी की। सिब्बल के घर के बाहर नारेबाजी मनीष तिवारी ने ट्वीट कर कहा, ‘जो लोग पिछली रात नेतृत्व के प्रदर्शन को डिफेंड कर रहे थे…उसके बाद कपिल सिब्बल के घर के बाहर क्या हुआ…उनलोगों ने गाड़ी को नुकसान पहुंचाया। गाड़ी के ऊपर खड़े हो गये। घर के अंदर और बाहर टमाटर फेंके गये। अगर यह उपद्रव नहीं तो फिर क्या है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here